अन्य

नहीं रहीं स्वाधीनता की पुजारन सिया देवी, 85 वर्ष की उम्र में किया महाप्रयाण

Banka Live On Telegram
बांका Live डेस्क : बांका जिला जद यू के वरीय नेता बोधनगर टीटही निवासी लाल बिहारी सिंह की सास स्वतंत्रता सेनानी पेंशनधारी सिया देवी का निधन हो गया. वे 85 वर्ष की थीं. उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को अगुवानी गंगा घाट पर किया गया. वे अपने पीछे चार बेटे क्रमशः राम नगीना सिंह, अग्निदेव सिंह, इंद्रदेव सिंह एवं रामचंद्र सिंह और तीन बेटियों क्रमशः रंजन सिंह, ललिता सिंह एवं अनिता सिंह सहित भरापूरा परिवार छोड़ गयी हैं. सिया देवी के लालन-पालन में बड़े हुए लाल बिहारी सिंह के पुत्र डॉ. सुधांशु शेखर फिलवक्त बीएनएमयू, मधेपुरा के जनसंपर्क पदाधिकारी हैं.

IMG 20170822 WA0016 1 - Banka Live

सिया देवी माधवपुर  (खगड़िया) निवासी स्वतंत्रता सेनानी स्व. राम नारायण सिंह की धर्मपत्नी थीं. वे एक देशभक्त एवं धार्मिक  महिला थीं. उनके दोनों हाथ का गोदना भी इसका सूचक था. उन्होंने अपने बाएं हाथ में ‘जय हिन्द’ एवं  दाएं हाथ में ‘सिताराम’ (सीताराम) लिखवाया था. गोदना वाला बाएं हाथ में उनके पति का नाम लिखवाने बोल रहा था. लेकिन सिया देवी ने ‘जय हिन्द’ लिखवाया, क्योंकि उन्हें पता था कि उनके स्वतंत्रता सेनानी पति ‘अपने नाम’ से अधिक ‘जय हिन्द’ देखकर प्रसन्न होंगे. इससे हम उस समय ‘जय हिन्द’ की महत्ता एवं लोकप्रियता का सहज ही अनुमान लगा सकते हैं.

IMG 20170822 WA0017 - Banka Live

आज जबकि ‘देशभक्ति’ को लेकर राजनीति हो रही है, तो सिया देवी जैसी घरेलू ग्रामीण महिलाएं हमारी प्रेरणास्रोत हो सकती हैं. सिया देवी की धार्मिकता भी प्रेरणादायी हैं. वे हिन्दू धर्म के सभी कर्मकांडों का पालन करती थीं. तबियत खराब होने के बावजूद गंगास्नान करती थीं, शिवालय जाती थीं और जीतिया आदि सभी व्रत करती थीं. लेकिन उनका गैरधर्मावलंबियों के प्रति भी प्रेम था. उनके पति के सहकर्मी स्वतंत्रता सेनानी मियां सादिक नवाद अक्सर उनके घर आते थे और सिया देवी उन्हें प्रेम से चाय-नास्ता देती थीं. सचमुच सिया देवी त्याग, तपस्या, प्रेम एवं सेवा की प्रतिमूर्ति थीं. सिया देवी के निधन पर पूर्व सांसद एवं पूर्व कुलपति प्रोफेसर डॉ. रामजी सिंह, बीएनएमयू के कुलपति प्रोफेसर डॉ. अवध किशोर राय, प्रतिकुलपति प्रोफेसर डॉ. फारूक अली, सिंडिकेट सदस्य डॉ. जवाहर पासवान, टीएमबीयू भागलपुर के पूर्व संकायाध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. प्रभु नारायण मंडल, दर्शनशास्त्र विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. शंभु प्रसाद सिंह सहित कई गणमान्य लोगों ने शोक व्यक्त किया है.

Banka Live Offer

बांका लाइव ब्यूरो

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button