अपराधबांकारजौन

BREAKING : बांका में महज 5 रुपये के लिए रड से मारकर पुलिस जवान की हत्या

Banka Live On Telegram

बांका लाइव ब्यूरो : महज ₹5 को लेकर कोई किसी की जान ले सकता है भला! सुनने में ही अटपटा और अस्वाभाविक सा लगता है। लेकिन बांका में गुरुवार को कुछ ऐसा ही हुआ वह भी एक पुलिसकर्मी के साथ। सिर्फ ₹5 के विवाद में बिहार पुलिस के एक जवान की रड से मारकर हत्या कर दी गई। इस घटना को लेकर जिले में सनसनी फैल गयी।

- Banka Live

घटना बांका जिला अंतर्गत रजौन थाना क्षेत्र की है। रजौन थाना क्षेत्र के खैरा मिर्जापुर गांव निवासी चंद्रशेखर पंझा बिहार पुलिस के जवान थे। पहले वह रोहतास जिले में तैनात थे। लेकिन हाल ही में उनका तबादला आरा जिला में कर दिया गया। आरा जिले में तबादला किए जाने के बाद आरक्षी चंद्रशेखर पंझा वहां रहने लायक कुछ इंतजाम होने तक के लिए परिवार को घर पहुंचाने अपने गांव आए हुए थे।

गुरुवार को वह ड्यूटी ज्वाइन करने हेतु आरा लौट रहे थे। उन्हें भागलपुर से गाड़ी पकड़नी थी, तो अपने गांव से वह बाइक से भागलपुर के लिए निकले। रजौन के नरीपा मोड़ के पास शायद उनकी गाड़ी पंक्चर हो गई। फलस्वरूप वह पास ही स्थित एक पंक्चर दुकान में गाड़ी बनवाने गए। बताया गया कि वही पंक्चर मिस्त्री से उनकी ₹5 के कम- ज्यादा लेनदेन को लेकर विवाद हो गया।

Banka Live Offer
IMG 20200716 - Banka Live

इसी दौरान पंक्चर मिस्त्री ने उन्हें टायर खोलने वाली रॉड से उठाकर सिर पर दे मारा जिससे आरक्षी चंद्रशेखर पंझा गिर पड़े और संभवतः संभवत वहीं उनकी मौत हो गई। इस घटना को दुर्घटना का रूप देने के लिए पंक्चर मिस्त्री ने उन्हें घसीट कर सड़क के दूसरी ओर पहुंचा दिया और गाड़ी को भी बेतरतीब लिटा दिया, ताकि लोगों को उनके एक्सीडेंट होने का भ्रम हो। इस पूरे घटनाक्रम को पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद पंक्चर मिस्त्री एवं उसकी भाभी ने खुद पुलिस के पदाधिकारियों के समक्ष बयान किया है।

हालांकि सुबह में प्रथम दृष्टया इस मामले को एक्सीडेंट का केस मानते हुए इसी आशय की रिपोर्ट पुलिस में दर्ज की गई थी। लेकिन दोपहर बाद एसपी अरविंद कुमार गुप्ता के निर्देश पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी दिनेश चंद्र श्रीवास्तव मामले की जांच करने रजौन थाना पहुंचे। इससे पहले थानाध्यक्ष नीरज तिवारी ने एक्सीडेंट के इस कथित मामले का हत्या के मामले के तौर पर रहस्योद्घाटन किया।

इस मामले में हत्या की बात सामने आते ही पुलिस ने पंक्चर मिस्त्री पर दबिश बनाई और उसे हिरासत में ले लिया। उसकी भाभी को भी पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की। दोनों ने पुलिस के समक्ष आरक्षी चंद्रशेखर पंझा की हत्या की बात स्वीकार करते हुए पूरे मामले की जानकारी दी। उनकी स्वीकारोक्ति के आधार पर रेड करते हुए पुलिस ने उस रड को भी बरामद कर लिया जिससे आरक्षी की हत्या की गई थी। अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के अनुसार इस मामले में मृतक की पत्नी के बयान पर हत्या का मामला दर्ज किया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button