अपराधबांका

BANKA : फंटूश यादव की मौत के विरोध में ग्रामीणों का बवाल, सड़क जाम

अवैध बालू प्रकरण में गोली लगने से हुई थी फंटूश यादव की मौत

Banka Live On Telegram

बांका लाइव ब्यूरो : बालू के अवैध कारोबार प्रकरण में गोली लगने से फंटूश यादव की मौत हो जाने के बाद उसके परिजनों एवं ग्रामीणों ने जमकर बवाल काटा। उन्होंने बांका- अमरपुर मार्ग को अपने गांव से सटे महागामा मोड़ के पास जाम कर दिया। इस दौरान उन्होंने पुलिस प्रशासन एवं बालू ठेका कंपनी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जाम कर रहे परिजन एवं ग्रामीण मृतक फंटूश यादव के परिवार वालों को मुआवजा एवं दोषियों को सजा देने की मांग कर रहे थे।

IMG 20191023 WA0010 - Banka Live

ज्ञात हो कि कल रात बालू के अवैध उत्खनन एवं ट्रांसपोर्टेशन की सूचना पर बांका के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी माइनिंग अफसरों एवं कर्मियों को लेकर अमरपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत जेठौर घाट पहुंचे थे। लेकिन मार्ग में जनकपुर के पास बालू की अवैध डंपिंग से हो रही ट्रकों में लोडिंग को रोकने के दौरान बालू माफियाओं ने सुरक्षाकर्मियों समेत उन पर हमला कर दिया।

इस हमले में एसडीपीओ दिनेश चंद्र श्रीवास्तव एवं कुछ पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस दौरान गोली भी चली जिसमें फंटूश यादव नामक युवक की मौत हो गई। फंटूश, बताते हैं कि उन्हीं में से एक ट्रक का चालक था जिन पर बालू लोडिंग की जा रही थी। वह समीप के गांव जनकपुर का रहने वाला था। रात में ही उसकी लाश को पोस्टमार्टम के लिए बांका लाया गया।

Banka Live Offer
IMG 20191023 160115 - Banka Live

लेकिन, उधर इस घटना के विरोध में फंटूस यादव के परिजनों एवं क्षेत्र के ग्रामीणों ने रोष प्रदर्शन करते हुए बांका- अमरपुर मुख्य मार्ग पर अपने गांव से सटे महागामा मोड़ के पास सुबह से ही सड़क जाम कर दिया। जाम के दौरान मार्ग पर यातायात अवरुद्ध करने के लिए उन्होंने अनेक स्थानों पर टायर जला दिए। परिजन एवं ग्रामीण पुलिस प्रशासन एवं बालू ठेका कंपनी के विरोध में नारेबाजी कर रहे थे। जाम के कारण उक्त मार्ग पर करीब 5 घंटे तक यातायात पूरी तरह अवरुद्ध रहा। जाम के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं।

IMG 20191023 WA0027 - Banka Live

जाम कर रहे परिजन एवं ग्रामीण मुआवजे के साथ-साथ जिलाधिकारी एवं एसपी को बुलाने की मांग पर अड़े थे। लेकिन आज दोपहर एएसपी अभियान ओम प्रकाश सिंह मौके पर पहुंचे। प्रखंड मुख्यालय से भी अधिकारी वहां पहुंचे। अधिकारियों ने समझा-बुझाकर ग्रामीणों को जाम हटाने के लिए राजी किया। इस बीच अंचलाधिकारी ने प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से ₹20000 की आपात अनुग्रह राशि मृतक के परिजनों को दिए जाने की घोषणा की। अधिकारियों ने कहा कि मुआवजे की बात कानूनी प्रक्रिया के अंतर्गत बाद में आगे बढ़ाई जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button