बांकाराजनीतिराष्ट्रीय

EXCLUSIVE : बिहार के बांका से जुड़े हैं जम्मू- कश्मीर के नए LG मनोज सिन्हा के गहरे रिश्ते

Banka Live On Telegram

बांका लाइव डेस्क : पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं दिग्गज भाजपा नेता मनोज सिन्हा को जम्मू कश्मीर के नए उपराज्यपाल के पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल के पद से गिरीश चंद्र मुरमू के इस्तीफे के बाद केंद्र सरकार ने उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी है।जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल पद की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी प्राप्त करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा का बांका जिले से भी गहरा रिश्ता है। आइए जानते हैं इस बारे में..

images 2020 08 - Banka Live

बीएचयू के छात्र संघ अध्यक्ष से लेकर केंद्रीय मंत्री और अब जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल के पद तक का सफर करने वाले मनोज सिन्हा का जन्म हालांकि उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिला अंतर्गत मोहनपुरा गांव के एक किसान परिवार में 1 जुलाई 1959 को हुआ था, लेकिन उनकी और उनके परिवार की पृष्ठभूमि बिहार के बांका जिला अंतर्गत शंभूगंज प्रखंड के पौकरी पंचायत स्थित भलुआ गांव से जुड़ी है।

IMG 20210413 WA0066 - Banka Live

इस गांव में आज भी उनके परिवार के बहुत सारे परिजन मौजूद हैं और यहीं उनकी खेती किसानी है। बताया तो यह जाता है कि मनोज सिन्हा मूल रूप से इसी भलुआ गांव के हैं जिनके पूर्वज अतीत में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिला अंतर्गत मोहनपुरा गांव में जा बसे थे। भलुआ गांव में मनोज सिन्हा का आज भी पुश्तैनी बासा है। उनका कामत भी है, जिसकी देखरेख उनके ही स्वजन एवं मैनेजर करते हैं। छात्र जीवन से ही लेकर सांसद और केंद्रीय मंत्री रहते हुए उनका यहां आना-जाना लगातार लगा रहा। बांका जिले के बहुत से लोगों से उनका व्यक्तिगत रिश्ता आज भी कायम है।

Banka Live Offer

मनोज सिन्हा की शिक्षा दीक्षा का शुभारंभ मोहनपुरा गांव के ही प्राथमिक विद्यालय से हुआ। बाद में उच्च शिक्षा के लिए उन्होंने बीएचयू में दाखिला लिया और वहीं से आईआईटी की पढ़ाई पूरी की। बीएचयू से ही उन्होंने छात्र राजनीति की शुरुआत की और 1983 में बीएचयू छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए। इंजीनियरिंग करने के बाद उन्हें कई अच्छी नौकरियां भी ऑफर हुईं लेकिन उन्होंने इन्हें अस्वीकार करते हुए राजनीति के क्षेत्र में ही अपना कैरियर तलाश किया।

मनोज सिन्हा वर्ष 1989 से 1996 तक भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के सदस्य रहे। 1996 में वह पहली बार गाज़ीपुर सीट से चुनाव जीतकर लोकसभा सदस्यों बने। लेकिन 1998 के लोकसभा चुनाव में वह हार गए। अलबत्ता सिर्फ 13 महीने बाद 1999 में जब दोबारा चुनाव हुआ तो दूसरी बार गाजीपुर से लोकसभा सदस्य चुने गये। वैसे इस सत्र के बाद करीब डेढ़ दशक तक वह कोई चुनाव नहीं जीत पाए।

उनकी राजनीतिक बुलंदी वर्ष 2014 में छू गई जब लोकसभा चुनाव तीसरी बार जीतने के बाद मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वह केंद्रीय मंत्री नियुक्त किए गए। उन्हें रेलवे जैसे महत्वपूर्ण विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई। हालांकि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में पराजय के बाद सियासी परिदृश्य से वह लगभग अदृश्य से हो गए। इससे पहले हालांकि वर्ष 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद उनका नाम यूपी के मुख्यमंत्री के प्रमुख दावेदारों के रूप में उभरा, लेकिन बाजी योगी आदित्यनाथ मार ले गए। हालांकि अब जबकि उन्हें जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल पद की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है, देश के राजनीतिक परिदृश्य में एक बार फिर से उनकी धमाकेदार वापसी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button