अन्य

ओह्ह्ह! तो यही है अपना सुप्रसिद्ध पौराणिक पवित्र पापहरणी सरोवर…!

Banka Live On Telegram
बांका LIVE डेस्क : … ओह्ह्ह! तो ये है अपनी सुप्रसिद्ध मंदार पापहरणी. पवित्र पापहरणी सरोवर, जिसके बारे में आध्यात्मिक मान्यता है कि इसमें स्नान करने मात्र से मनुष्य तमाम तरह के पापों और शापों से मुक्त हो जाता है.

Mandar Hill banka

ऐतिहासिक उल्लेख तो यह भी है कि इसी पवित्र सरोवर में स्नान करने से पालवंशीय नरेश को असाध्य कुष्ठ रोग से मुक्ति मिली थी, जिससे प्रभावित होकर उनकी रानी कोण देवी ने मंदार पर्वत शिखर तक पहुंचने के लिए शिलाखंडों को कटवाकर प्रस्तर सोपान बनवाया था. लेकिन आज यह सरोवर खुद शापित होकर इसमें स्नान करने वालों में रोगोत्पादन का सबब बन कर  रह गया है. पापहरणी सरोवर आज पूरी तरह कूड़ेदान बन चुका है. इसका पानी जहरीला हो चुका है. इसके पानी में घुले आर्सेनिक का सहज अंदाजा इसके पानी के हरे हो चुके रंग को देखकर ही लगाया जा सकता है. पापहरणी को एक ओर से भरकर इस पौराणिक धरोहर का वजूद मिटा देने की साजिश हो रही है.

इसके लिए जिम्मेदार कौन है? यह जांच का अलग विषय है. लेकिन आश्चर्य इस बात को लेकर है कि मौके – बेमौके हाथों में झाड़ू ले पापहरणी की सफाई का नाटकीय उपक्रम करते हुए या विभिन्न अवसरों पर मंदार और पापहरणी को पर्यटन के राष्ट्रीय नक्शे पर स्वर्णाक्षरों में दर्ज कराने की घोषणा और दावा करने वाले नेता, अफसर, जन प्रतिनिधि और यहां तक कि मंत्री भी इस विषय पर बिल्कूल खामोश और मूक दर्शक बने बैठे हैं.

Banka Live Offer

शायद उनकी नजर में मंदार और पापहरणी की इस दुर्दशा पर चिंता और चिंतन करने की जिम्मेदारी तो सिर्फ आम जनता का है. उनका अधिकार तो सिर्फ भाषण देने का है और अपना दायित्व भी उन्होंने शायद अपने भाषणों तक ही सीमित कर रखा है. अफसोस…. कि आम लोग इस मुद‍दे पर चिंता और चिंतन तो गहरी कर रहे हैं, लेकिन उनके हाथ में इससे ज्यादा और कुछ नहीं. या फिर वे भी इसे ज्यादा कुछ करना नहीं चाहते. वरना जो तबका गाहे-बगाहे मंदार और पापहरणी में उत्सव, समारोह और महाआरती जैसे आयोजन कर सकता है, वह पापहरणी को उसका पुनर्जीवन देने का कम से कम प्रयास तो जरुर कर सकता था…!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button